the village_गाँव की कहानी - gaon ki duniya

Latest

Online Money, business Idea, the village of india, motivational Story, Health Tips in hindi, and tech news in hindi

Recent Posts

BANNER 728X90

Sunday, February 17, 2019

the village_गाँव की कहानी


गाँव की कहानी 

the village
the village 

यह भी पढ़ें



इसमें कोई संदेह नहीं है कि ग्रामीण भारत की तस्वीर एवं तकदीर तेजी से बदल रही है। इसमें बुनियादी सुविधाओं के विकास का बहुत बड़ा योगदान है। सूचना और संचार प्रौद्योगिकी का विस्तार भी इसमें अहम भूमिका अदा कर रहा है। देश के गाँवों में रहने वाले लोग विकास को किस नजरिए से देखते हैं,


गाँव का जीवन या लोगों का ग्रामीण जीवन उनका माना जाता है जो शहरों से दूर रहते हैं और शहरों की तरह उन्हें सभी प्रकार की सुविधाएँ नहीं मिल पाते हैं। शहरी लोगों के तुलना में गाँव के लोगों का जीवन बहुत अलग होता है।
आज की इस लेख में हम ग्रामीण – गांव में रहने वाले लोग कैसे अपना जीवन व्यतीत करते हैं उनके रहन-सहन का तरीका और साथ ही वहां के सुंदर वातावरण के विषय में आपको बताएंगे

शिक्षा

आज भी इस आधुनिक युग में गाँव का जीवन शहरों से बहुत अलग है। गाँव में पूर्ण रूप से शिक्षा की सुविधाएँ आज भी उपलब्ध नहीं हो पाए हैं। आज भी ज्यादातर गाँव में मात्र प्राइमरी स्कूलों की सुविधा है और कुछ बड़े गाँव में मात्र हाई स्कूल की सुविधा है।
कॉलेज या उच्च शिक्षा के लिए आज भी गाँव के बच्चों को बड़े शहरों में जाना पड़ता है। ऐसे में जिन लोगों के घर में अपने बच्चों को शहर भेजने के लिए पैसे नहीं होते हैं वह उनकी शिक्षा वही रोक देते हैं। इस प्रकार ज्यादातर लोग गाँव में अशिक्षित रह जाते हैं।

घर और जीवन शैली 


the village
the village 
यह भी पढ़ें



पहले भारत के सभी गाँव में बांस और भूसे से बने चाट हुआ करते थे और घर भी मिट्टी के होते थे परन्तु अब प्रधानमंत्री आवास योजना की मदद से गाँव में गरीब लोगों को मुफ्त में पक्के घर मिल रहे हैं।
लगभग सभी गाँव के लोग खेती-किसानी करते हैं और अपने घरों में मुर्गियां, गाय-भैंस, बैल, और बकरियां पालते हैं। साथ ही गाँव के लोग शहरी लोगों की तरह सब्जी-मंडी में सब्ज़ियाँ खरीदने नहीं जाते हैं। हर कोई अपने खेतों और बगीचों में सब्ज़ियाँ लगाते हैं और खुद के घर की सब्ज़ियाँ खाते हैं।
गाँव के लोगों का मुख्य कार्य खेती होता है। आज भी शहरों में जिन अनाजों को लोग खाते हैं सभी गाँव के खेतों से ही आता है। आज भी इस 21वीं सदी में कई ऐसे गाँव हैं जहाँ तक पहुँचने के लिए अच्छी सड़क तक नहीं हैं।
हाला की प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना के अनुसार ज्यादातर गाँव को अब पक्की सड़कों से जोड़ा जा चूका है परन्तु फिर भी कुछ ऐसे गाँव हैं जहाँ पर सड़क ना होने के कारण वहां जाना तक बहुत मुश्किल होता है। उन जगहों पर सड़क ना होने के कारण बारिश के महीने में कीचड़ भर जाता है, गड्ढों के कारन जाना मुश्किल हो जाता है।


गाँव के लोग साप्ताहिक छोटे बाज़ार लगते हैं जहाँ लोग कपड़े, खाने का समान, बिजली आ समान और अन्य ज़रूरी समान खरीदने जाते हैं। अगर उन्हें कुछ बड़ी चीजें खरीदना होता है तो वह पास के शहर जाते हैं।
गाँव में मौसम बहुत ही सुहाना और वातावरण बहुत स्वच्छ होता है। आज शहरी इलाकों में प्रदूषण के कारण सांस लेना तक मुश्किल हो गया है। परन्तु गाँव में ऐसा नहीं है। गाँव में कम वाहन चलने के कारण प्रदूषण ना के बराबर होता है और इसलिए वातावरण भी स्वच्छ होता है।
the village
the village 


लोग

जिन क्षेत्रों में कुछ प्राकृतिक कारणों से खेती किसानी सही प्रकार से नहीं हो पा रही है उन क्षेत्रों के गाँव में ज्यादातर लोग गरीबी रेखा(BPL-Below poverty line) के नीचे होते हैं। उनके पास खेत ना होने या खेतों में पानी की सुविधा सही प्रकार से ना हो पाने के कारण उनके पास एक वक्त का खाना खाने के लिए भी अनाज नहीं होता है।
ज्यादातर राज्यों की सरकार के इन गरीबी रेखा के लोगों के लिए जन धन योजना बैंक अकाउंट प्रदान किया है और साथ ही परिवार के अनुसार 2 रुपए वाला चावल प्रदान किया जा रहा है 

यह भी पढ़ें

No comments:

Post a Comment