health tips, Health_tips_hindi, What is chikungunya viral fever, चिकनगुनिया वायरल बुखार - gaon ki duniya

Latest

Online Money, business Idea, the village of india, motivational Story, Health Tips in hindi, and tech news in hindi

Recent Posts

BANNER 728X90

Sunday, October 6, 2019

health tips, Health_tips_hindi, What is chikungunya viral fever, चिकनगुनिया वायरल बुखार

 चिकनगुनिया वायरल बुखार क्या है
health tips, Health_tips_hindi, What is chikungunya viral fever, चिकनगुनिया वायरल बुखार
What is chikungunya viral fever

 यह बुखार एंडीज मच्छर के काटने से होता है जो संक्रमित मच्छर के काटने के बाद परः यह  2 से 3 दिन में चढ़ता है यह अवधि 1 से 12 दिन भी हो सकती है
इसके निम्नलिखित लक्ष्ण है

1.शरीर मे एक साथ चकते ओर सूजन सिर , दर्द , उल्टी,  आंखों में चमक , जोड़ों के दर्द,  शरीर का विशेष प्रकार से आगे की ओर झुकाव, और इनके साथ 1 से 3 दिन तक बुखार बुखार अचानक बढ़ जाता है
health tips, Health_tips_hindi, What is chikungunya viral fever, चिकनगुनिया वायरल बुखार
What is chikungunya viral fever

यह भी पड़े 


वरिष्ठ नागरिकों को क्या-क्या सावधानियां रखनी चाहिए



शरीर का तापमान 39 डिग्री सेल्सियस से 40 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच जाता है इसके साथ साथ बीच-बीच में कापने वाली ठंड भी लगती  है
health tips, Health_tips_hindi, What is chikungunya viral fever, चिकनगुनिया वायरल बुखार
What is chikungunya viral fever

यह स्थिति दो या तीन दिन रहती है जोड़ों का दर्द मुख्य ता हाथों कलाइयों तथा पैरों को के छोटे-छोटे जोड़ों में होता है।

 इसमें बड़े-बड़े जोड़ कम प्रभावित होते हैं सुबह के समय चलने फिरने में दर्द बहुत अधिक होता है जो हल्की कसरत द्वारा कम हो जाता है

किंतु कठिन कसरत से यह और भी बढ़ जाता है इसमें सूजन भी हो जाती है
health tips, Health_tips_hindi, What is chikungunya viral fever, चिकनगुनिया वायरल बुखार
What is chikungunya viral fever

 कुछ सप्ताहों के रोग के लक्षणों से मुक्त हो जाते हैं किंतु अधिक गंभीर रोगियों को पूर्ण रूप से ठीक होने में कई महीने तक लग जाते हैं

चिकनगुनिया का उपचार
health tips, Health_tips_hindi, What is chikungunya viral fever, चिकनगुनिया वायरल बुखार
What is chikungunya viral fever


इसकी भी कोई विशिष्ट दवा नहीं है यह सीमित समय के लिए होता है और कम घातक है एवं समय के साथ ठीक भी हो जाता है इस रोग में एंटीबायोटिक बाली दवाओ से बचना चाहिए

शरीर में पानी एवं तरल की पूर्ति के साथ दबा पेरासिटामोल सोडियम क्लोराइड जैसे कि संक्रमण का उपचार करने तथा जोड़ों के दर्द तथा सूजन से मुक्ति दिलाने की सलाह दी जाती है ।

यह भी पड़े 


वरिष्ठ नागरिकों को क्या-क्या सावधानियां रखनी चाहिए



No comments:

Post a Comment